Custom Search
Showing posts with label India. Show all posts
Showing posts with label India. Show all posts

Friday, March 10, 2017

हिन्दी एलियंस - उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2017 से जुड़ी भविष्यवाणी और एग्जिट पोल

उत्तर प्रदेश चुनाव 2017 की भविष्यवाणी और एग्जिट पोल UP Election 2017 Prediction and Exit Poll in Hindi
नमस्कार दोस्तों और पाठकों।

आज हिन्दी एलियंस आपके सामने उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2017 से जुड़ी भविष्यवाणी और एग्जिट पोल पेश कर रहा है। आज हम पूर्ण रूप से ये भविष्यवाणी कर रहे हैं कि उत्तर प्रदेश चुनाव में साफ तौर पर पूर्ण बहुमत भारतीय जनता पार्टी को प्राप्त हो रहा है। बहुजन समाजवादी पार्टी दूसरे नंबर पर रहेगी जबकि इस समय सत्ताधारी दल का गठबंधन यानी समाजवादी पार्टी और कांग्रेस का गठबंधन तीसरे नंबर पर होगा। हमारे एग्जिट पोल के नजरिए से देखें तो उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी की सरकार सत्ता में आ रही है, तो वहीं प्रमुख विपक्षी दल बहुजन समाजवादी पार्टी होगी। 

वैसे भी उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2017 के परिणाम आने में 24 घंटे से भी कम का ही समय रह गया है। अब देखना यह है उत्तर प्रदेश में किस पार्टी की सरकार आएगी।


उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2017 का एग्जिट पोल

भाजपा - 240+ से 270+
बसपा - 60+ से 90+
सपा और कांग्रेस गठबंधन - (40+ और 15) 55+ 
अन्य दल - 13+


हिन्दी एलियंस द्वारा उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2017 की भविष्यवाणी

भाजपा - 270+
बसपा - 60+
सपा और कांग्रेस - (40+ और 15) 56+ 
अन्य दल - 13+


हमें पूरी उम्मीद है कि उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2017 के परिणाम हमारे एग्जिट पोल और भविष्यवाणियों के अनुसार ही सटीक और सही होंगे। सादर।।


Keywords - Uttar Pradesh Vidhansabha Election 2017 Prediction and Exit Poll in Hindi, UP Election 2017 Prediction

Thursday, March 9, 2017

होली के रंग में रंगे हुए नोट भी मान्य अथवा वैध होंगे - आरबीआई

RBI द्वारा जारी किए गए 500 ₹ और 2000 ₹ के नए नोटों के बारे में सोशल मीडिया पर चल रहा एक मैसेज काफी ज्यादा वायरल हो रहा है। आजकल सोशल मीडिया (जैसे - फेसबुक और व्हाट्सऐप) पर एक मैसेज तेजी से वायरल हो रहा है जिसमें कहा गया है कि होली खेलते समय जेब में नए नोट (500 और 2000 रुपये के) ना रखें, क्योंकि रंग लग जाने पर ये नोट प्रचलन से बाहर हो जाएंगे।
भारतीय नोट रुपये से जुड़ी नयी सूचनाएँ Indian Rupee Note New Notifications in Hindi
इस बारे में हाल में देश के केंद्रीय बैंक और नोट का निर्गम करने वाले भारतीय रिजर्व बैंक (Reserve Bank of India) ने साफ तौर पर स्पष्ट किया है कि - 'रंग लगे नोट की भी वैधानिकता वही है, जो कि साफ सुथरे नोट की है।'

इस विषय पर RBI की प्रवक्ता ने स्पष्ट किया कि - 'नोट चाहे साफ सुथरे हों या रंग लगे, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता है। उसकी वैधानिकता बराबर ही है।'

भारत में दुनिया के 70 प्रतिशत बाघ है

भारत में दुनिया के सबसे ज्यादा बाघ है India largest number Tigers in the world
3 मार्च, सन् 2017 ई. को 'विश्व वन्यजीव दिवस' ( World Wildlife Day ) के अवसर पर भारत के केन्द्रीय वन एवं पर्यावरण मंत्री श्री अनिल दवे जी ने कहा कि - 'भारत में दुनिया के 70 फीसदी ( यानी करीब 2,400 ) बाघ मौजूद हैं। वहीं, गिर के जंगलों में शेरों की संख्या भी 2,400 तक पहुँच चुकी है। इसके अलावा एक सींग वाले गैंडों की संख्या के मामले में भी भारत अव्वल है।'

उन्होंने आगे कहा - 'वन्य जीवों के संरक्षण का ज्ञान भारत में अतीत से मौजूद है।'

देश के सांसदों को वापस बुलाने के लिए भाजपा सांसद वरुण गाँधी ने प्राइवेट बिल पेश किया

Varun Gandhi वरुण गाँधी
साभार : khabar.ndtv.com   
भारतीय जनता पार्टी के सुल्तानपुर ( उत्तर प्रदेश ) से युवा सांसद वरुण गाँधी ने अपना काम ठीक से ना करने वाले सांसदों और विधायकों को वापस बुलाने के लिए संसद में एक प्राइवेट बिल पेश किया है। वरुण गाँधी के अनुसार - 'अगर सांसद को जिताने वाली जनता के 75 प्रतिशत लोग उनके काम से खुश नहीं हैं तो उन्हें अपने जन प्रतिनिधि को वापस बुलाने का विकल्प मिलना चाहिए।'

वरुण ने वक्तव्य के अनुसार - 'देश के मतदाताओं को पाँच साल में एक बार देश के राजनीतिक विमर्श का हिस्सा बनने के बजाय इसे नियंत्रण करने की भूमिका निभानी चाहिए। लोकतांत्रिक व्यवस्था में मतदाताओं का परेशानी झेलते हुए मूक दर्शक बने रहना ठीक नहीं है।'

वरुण ने आगे कहा कि - 'तर्क और न्याय प्रणाली तो यही कहती है कि अगर जनता को अपना प्रतिनिधि चुनने का अधिकार है तो उन्हें गलत काम करने पर या कर्तव्य ना पूरा करने पर उन्हें अपने पद से हटाने का भी अधिकार है। पूरी दुनिया में लोगों ने 'राइट टू रिकॉल' को आजमाया है। जन प्रतिनिधियों को वापस बुलाने यानी 'राइट टू रिकॉल' के विचार को लागू करने का वक्त आ गया है।'

वरुण गाँधी ने चुने हुए सांसदों को वापस बुलाने के लिए जन प्रतिनिधित्व कानून, 1951 में संशोधन करने का प्रस्ताव रखा। इसी सिलसिले में उन्होंने संसद में जन प्रतिनिधित्व ( संशोधन ) बिल, 2016 पेश किया है।

इस कानून के बन जाने की स्थिति में सांसद को वापस बुलाने की प्रक्रिया उसके क्षेत्र का कोई भी मतदाता ( Voter ) शुरू कर सकता है। इसके लिए उसे स्पीकर के समक्ष याचिका दायर करनी होगी। जिसके लिए याचिका पर कुल 25 प्रतिशत मतदाताओं के हस्ताक्षर आवश्यक होंगे। जिसके बाद याचिका की जाँच के बाद सही पाए जाने की स्थिति में स्पीकर याचिका को भारत के चुनाव आयोग के पास भेजेंगे। उसके बाद का सारा कार्य चुनाव आयोग ही तय करेगा।