Posts

Showing posts with the label स्वास्थ्य

अवसाद में फायदेमंद है योग

Image
बोस्टन (अमेरिका) । तन-मन की सेहत को सुधारने में योग काफी फायदेमंद होता है । यदि आप रोजाना योग न कर सकें, तो कम-से-कम सप्ताह में दो बार नियमित तौर पर योग करें। इससे अवसाद में कमी आती है। अमेरिका के बोस्टन यूनिवर्सिटी में हुए एक शोध के मुताबिक, 'सप्ताह में दो बार योग एवं गहरी सांस का अभ्यास करने से अवसाद के लक्षणों में कमी आती हैं, क्योंकि यह अवसादग्रस्त लोगों की श्वसन क्रिया में सहायक होता है, जो अवसादरोधी दवाओं का प्रयोग नहीं करते।'  यह शोध वैकल्पिक एवं पूरक चिकित्सा संबंधी एक जर्नल में प्रकाशित हुआ है। इसमें आसन एवं श्वसन नियंत्रण की सटीक विधियों के लिए आयंगर योग के विस्तार पर जोर दिया गया है। यह योग अष्टांग योग पर आधारित है। (न्यूज़ अपडेट - 4 अगस्त, 2017) Keywords - Yoga is beneficial in depression

अच्छी नींद के लिए खाएं लहसुन

Image
यदि आपको अच्छी नींद नहीं आती है, तो आपको रोजाना प्रीबायोटिक्स युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए जैसे कच्चे लहसुन, चुकन्दर और प्याज। अमेरिका के कोलोराडो बोल्डर यूनिवर्सिटी में किए एक शोध में पता चला है कि कच्चे लहसुन, चुकन्दर और प्याज जैसे खाद्य पदार्थों में प्राकृतिक रूप से पाए जाने वाले प्रीबायोटिक्स होते हैं, जो नींद में सुधार करते हैं और तनाव को भी कम करते हैं। प्रीबायोटिक्स कच्चे लहसुन, चुकन्दर और प्याज जैसे खाद्य पदार्थों में प्राकृतिक रूप से पाए जाने वाले डाइएटरी फाइबर पेट की सेहत के लिए ठीक होते हैं। ये पेट की समस्या में सुधार करते हैं। (न्यूज़ अपडेट - 4 अगस्त, 2017 ई.) Keywords -  Eat Garlic for Good Sleep Health News in hindi अगर आपको हमारी ये न्यूज़ पोस्ट पसंद आई हो तो कृपया मूषक (mooshak.in) पर हमारा अनुसरण करना ना भूलें -  https://mooshak.in/@प्रचार

दिनभर में 3 घंटे टीवी देखने से बच्चों में बढ़ सकता है डायबिटीज का खतरा

Image
लंदन। आजकल बच्चों के मनोरंजन का साधन बाहर खेले जाने वाले खेल ना होकर टीवी, वीडियो गेम या फिर मोबाइल फोन बन गए हैं। इन गैजेट्स के चलते बच्चों की आंखों पर बुरा असर पड़ता है। लेकिन एक शोध में इन गैजेट्स के अधिक प्रयोग करने पर और भी ज्यादा घातक परिणाम देखे गए हैं। शोध में पता चला है कि तीन घंटे या फिर उससे ज्यादा वीडियो गेम खेलने और टीवी देखने वाले बच्चों में डायबिटीज होने का खतरा काफी अधिक रहता है ।   लंदन की सेंट जॉर्ज यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने बताया कि मोटापा बढ़ना और शरीर में इंसुलिन का ना बनना एक विशेष कोशिका पर निर्भर करता है जिससे देर तक कंप्यूटर चलाने और टीवी देखने से हमारी यह कोशिका प्रभावित होती है। परिणाम स्वरूप शरीर का मोटापा बढ़ता है और इंसुलिन का बनना भी बंद हो जाता है। शरीर में इंसुलिन का ना बनना डायबिटीज रोग को बढ़ाता है। अध्ययन के प्रमुख शोधकर्ता ने बताया, 'बच्चों का कम टीवी देखना उनमें टाइप-2 डायबिटीज के खतरे को कम करता है।' शोधकर्ताओं ने अपने अध्ययन के लिए प्राइमरी स्कूल में पढ़ने वाले नौ और दस साल के 4,500 बच्चों को शामिल किया। यह रिसर्च 'आर्काइव्स ऑफ ड

केक की मोमबत्तियां फूंकने से संक्रमण का खतरा

Image
वाशिंगटन। जन्मदिन के केक या किसी खास इवेंट के सेलिब्रेशन के केक पर जलती मोमबत्तियों को फूंक मारकर बुझाने से संक्रमण का खतरा बढ़ सकता है । शोधकर्ताओं ने एक नए अध्ययन में दावा किया है कि इस लोकप्रिय परंपरा के कारण केक पर बैक्टिरिया की संख्या में 1400% तक इजाफा हो जाता है। अमेरिका की क्लेमसन यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने इस बात की जांच की है कि जन्मदिन के केक पर लगी मोमबत्तियों को फूंककर बुझाने से बैक्टिरिया का किस हद तक प्रसार होता है। शोधकर्ताओं ने कहा, जन्मदिन मनाने के दौरान केक काटने से पहले उस पर जलती मोमबत्तियों को फूंक मारकर बुझाने की परंपरा कैसे शुरू हुई इसके बारे में अलग-अलग राय है। कुछ लोगों के मुताबिक केक पर मोमबत्ती लगाने का रिवाज प्राचीन यूनान में शुरू हुआ। उस समय लोग केक पर मोमबत्तियां लगाकर आर्टेमिस देवी के मंदिर जाते थे। (समाचार अपडेट - 1 अगस्त, 2017 ई. ) Keywords -  The risk of infection by blowing cake candles अगर आपको 'हिन्दी एलियंस' की ये न्यूज़ पोस्ट्स पसंद आई हो तो हमें इन सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर फॉलो करना ना भूलें - फेसबुक (Facebook

अच्छी नींद के लिए स्मार्टफोन से दूरी जरूरी

Image
लंदन। अमेरिका में हुए एक शोध में दावा किया है कि अच्छी नींद के लिए स्मार्टफोन और टैबलेट को दूर रखना जरूरी है । स्मार्टफोन और टैबलेट से निकलने वाली कृत्रिम रौशनी नींद की गुणवत्ता पर विपरीत असर डालती है। शोध के मुताबिक नीली रोशनी हमारी सजगता को बढ़ाती है और हमारी शारीरिक घड़ी या सर्काडियन लय को नियमित करती है। डिजिटल उपकरणों की रोशनी सर्काडियन लय की इस स्वाभाविक व्यवस्था में हस्तक्षेप करती है। वह रेटिना ग्रंथि की उन कोशिकाओं को सक्रिय कर देती है जो आंतरिक तौर पर संवेदनशील होती हैं। वे मेलाटोनिन हार्मोन का दमन करती हैं जो हमारे शरीर को सोने का संकेत देने में अहम भूमिका निभाता है। इस अध्ययन में 17 साल से 42 साल तक के 22 प्रतिभागियों को शामिल किया गया। यह अध्ययन ओफ्थैलमिक एंड फिजियोलॉजिकल ऑप्टिक्स (Ophthalmic and Physiological Optics)  में छपा है। (समाचार अपडेट - 30 जुलाई, 2017 ई. ) Keywords -  Good sleep requires a distance from the smartphone अगर आपको 'हिन्दी एलियंस' की ये न्यूज़ पोस्ट्स पसंद आई हो तो हमें इन सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर फॉलो करना ना भूलें -

दिनभर खुश रहने से स्वास्थ्य लाभ बेहतर होता है

Image
न्यूयॉर्क। दिनभर खुश रहने से या फिर कई तरह के सकारात्मक भावों को महसूस करने वाले लोगों में किसी भी प्रकार की पुरानी बीमारी, असमय मृत्यु की संभावना काफी कम रहती है और स्वास्थ्य लाभ बेहतर होता है । एक हालिया अध्ययन में इस बात की जानकारी सही साबित हुई है। अमेरिका की कॉर्नल यूनिवर्सिटी (Cornell University)  के शोधकर्ताओं ने अपने एक अध्ययन में पाया कि दिनभर खुश रहने वालों की अपेक्षा कम खुश रहने वाले जलन के कम स्तर को महसूस करते हैं। जलन का कम स्तर सीधे तौर पर असमय मृत्यु और पुरानी बीमारी जैसे डायबिटीज के खतरे को कम करता है। शोधकर्ताओं ने अपने अध्ययन में 40 वर्ष से 65 वर्ष के 175 लोगों को शामिल किया था। शोधकर्ताओं ने 30 दिन तक इन सभी के सकारात्मक भावों का अध्ययन किया है। यह शोध हाल ही में 'इमोशन' ( Emotion)  पत्रिका में प्रकाशित की गई है। (समाचार अपडेट - 25 जुलाई, 2017 ई. ) Keywords -  Staying Happy all day Long Health Benefits are better अगर आपको 'हिन्दी एलियंस' की ये न्यूज़ पोस्ट्स पसंद आई हो तो हमें इन सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर फॉलो करना ना भूलें -

याददाश्त बढ़ाने में नियमित व्यायाम काफी मददगार है

Image
बर्लिन। नियमित व्यायाम से न केवल शरीर तंदुरुस्त रहता है बल्कि मस्तिष्क के चयापचय को बढ़ाकर बढ़ती उम्र में याददाश्त में कमी या डिमेंशिया की समस्या पर भी रोकथाम की जा सकती है। एक नए अध्ययन में यह दावा किया गया है। कई अध्ययनों में यह बात सामने आ चुकी है कि उम्रदराज लोगों में दिमागी समझ कमजोर होने, स्मृतिक्षय की रोकथाम में शारीरिक व्यायाम लाभकारी हैं। (समाचार अपडेट -  24 जुलाई, 2017 ई. ) Keywords -  Regular exercise is very helpful in improving memory अगर आपको 'हिन्दी एलियंस' की ये न्यूज़ पोस्ट्स पसंद आई हो तो हमें इन सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर फॉलो करना ना भूलें - फेसबुक (Facebook)  -  हिन्दी एलियंस | HindiAliens.com ट्विटर (Twitter)  -  https://twitter.com/HindiAliens यूट्यूब (YouTube)  -  https://www.youtube.com/channel/UCEil3BQ-jdLF3AbVJv-g2dQ

मोटापे से बचने के लिए भरपूर नाश्ता करें

Image
चित्र साभार : zeenews.india.com लॉस एंजिलिस। अधिक वजन और मोटापे से बचने के लिए दिन की शुरुआत में भरपूर नाश्ता करना उपयोगी हो सकता है। एक नए अध्ययन से पता चलता है कि जो लोग सुबह में भरपूर नाश्ता करते हैं उनका वजन ऐसा नहीं करने वालों के मुकाबले संतुलित रहता है। अमेरिका की लोमा लिंडा यूनिवर्सिटी के स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ के शोधकर्ताओं ने बताया कि पूरे दिन के मुकाबले सुबह के नाश्ते के समय सबसे ज्यादा आहार लेने वाले लोगों का बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) उन लोगों की तुलना में कम होता है जो दिनभर कम खाने के बाद रात को भरपेट खाते हैं। जबकि दोनों ही तरह के लोग पूरे दिन में एक सामान कैलोरी की खपत करते हैं। (समाचार अपडेट - 24 जुलाई, 2017 ई. ) Keywords :-  Have a lot of Breakfast to Avoid Obesity, if you want to avoid obesity must take breakfast every day अगर आपको 'हिन्दी एलियंस' की ये न्यूज़ पोस्ट्स पसंद आई हो तो हमें इन सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर फॉलो करना ना भूलें - फेसबुक (Facebook)  -  हिन्दी एलियंस | HindiAliens.com ट्विटर (Twitter)  -  https://twitter.com/H

मधुमेह में मामूली घाव भी खतरनाक

Image
नई दिल्ली। मधुमेह से रोगियों के पैरों में मामूली घाव भी काफी ज्यादा खतरनाक हो सकता है। एक नए अध्ययन में बताया गया है कि अध्ययन के आकलन के अनुसार, टाइप 2 मधुमेह के निदान के दौरान कम से कम 10 में से एक रोगी के पैर में क्षति की आशंका देखी गई है। अध्ययन से पता चला है कि भारत में 7.4 से 15.3 प्रतिशत मधुमेह रोगियों के पैरों में तकलीफ होती है। डब्ल्यूएचओ के अनुसार, इसे डायबेटिक फुट कहते हैं। (समाचार अपडेट - 23 जुलाई, 2017 ) अगर आपको 'हिन्दी एलियंस' की ये न्यूज़ पोस्ट्स पसंद आई हो तो हमें इन सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर फॉलो करना ना भूलें - फेसबुक (Facebook)  -  हिन्दी एलियंस | HindiAliens.com ट्विटर (Twitter)  -  https://twitter.com/HindiAliens यूट्यूब (YouTube)  -  https://www.youtube.com/channel/UCEil3BQ-jdLF3AbVJv-g2dQ

अच्छी इम्यूनिटी के लिए करें अदरक और तुलसी का सेवन | Use Ginger and Basil/Tulsi for Good Immunity

Image
विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organization) के अनुसार, दुनिया की 92 प्रतिशत जनसंख्या WHO के मानकों के नीचे वाली हवा की गुणवत्ता में साँस ले रही है। इस कारण लोग अधिक बीमार हो रहे हैं। उनमें स्ट्रोक (Stroke) , दिल संबंधी रोग (H eart Disease) , फेफड़े का कैंसर (L ung Cancer)  और साँस संबंधी समस्याएँ (R espiratory Problems)  हो रही हैं। वायु प्रदूषण (Air Pollution)   से होने वाले प्रभाव को कम करने के लिए विशेषज्ञ जीवनशैली में बदलाव करने की सलाह दे रहे हैं, जैसे कि सुबह के समय बाहरी गतिविधि जैसे जॉगिंग (J ogging)   / हल्का-फुल्का दौड़ना या साइकिलिंग (C ycling)  वगैरह न करें। खुले में व्यायाम करने की बजाय घर में ही व्यायाम करें। साथ ही विटामिन-सी ( Vitamin C)  और मैग्नीशियम युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन ( Magnesium-Rich foods)   करें। अदरक (Ginger) और तुलसी की चाय (Basil/ Tulsi Tea)  पियें। इम्यूनिटी (I mmunity)  को बढ़ाने के लिए यह बेहतर उपाय है।  Keywords :- Use Ginger and Basil/Tulsi for Good Immunity

तनाव का दांतों पर बुरा असर और 95 प्रतिशत भारतीयों को मसूड़ों की बीमारी

Image
नई दिल्ली। ज्यादा तनाव लेना स्वास्थ्य के लिए नुकसानदायक होता है। यह बात आमतौर पर सभी जानते हैं, लेकिन तनाव का दांतों की सेहत पर भी बुरा असर पड़ता है। यह एक नए अध्ययन से पता चलता है। भारत में दांतों की समस्याओं को गंभीरता से नहीं लिया जाता है। हाल ही में हुए एक नए अध्ययन से पता चला है कि लगभग 95 प्रतिशत भारतीयों को मसूड़ों की बीमारी है। आईएमए के अध्यक्ष डॉ. के. के. अग्रवाल जी ने कहा कि तनाव का दांतों की सेहत पर बुरा असर होता है। तनाव के चलते कई लोग मदिरापान और धूम्रपान शुरू कर देते हैं, जिसका आगे चलकर दांतों पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है। जानकारी के अभाव में ग्रामीण इलाकों में दांतों की समस्या अधिक मिलती है। शहरों में जंक फूड और जीवनशैली की अन्य कुछ गलत आदतों के कारण दांतों में समस्याएँ पैदा हो जाती हैं। प्रसंस्कृत भोजन में चीनी अधिक होने से भी नई पीढ़ी में विशेष रूप से दांत प्रभावित हो रहे हैं। चिंताजनक स्थिति 50 प्रतिशत लोग भारत में टूथब्रश का उपयोग ही नहीं करते हैं। 70 प्रतिशत बच्चों (15 वर्ष से कम उम्र) के दांत हो चुके हैं खराब इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) | Indian M

कॉफी पीने से आयु लंबी हो सकती है

Image
लंदन। कॉफी के शौकीन लोगों के लिए एक अच्छी खबर (Good News) है। एक ताजा शोध से पता चला है कि दिन भर में तीन बार कॉफी पीने से आपकी आयु लंबी हो सकती है। यह शोध यूरोप के दस देशों के करीब 35 साल से ज्यादा आयु के पांच लाख लोगों पर किया गया है। एनॉल्स ऑफ इंटरल मेडिसिन (Anols of Intrl Medicine)  नाम के जर्नल में प्रकाशित शोध में कहा गया है कि एक कप अतिरिक्त कॉफी हर दिन पीने से इंसान की आयु लंबी हो सकती है, भले ही यह कॉफी डिकैफिनेटेड ( Decaffeinated)   (कैफीन निकाला हुआ) ही क्यों ना हो। इंटरनेशनल एजेंसी फॉर रिसर्च ऑन कैंसर एंड इम्पेरियल कॉलेज ऑफ लंदन ( International Agency for Research on Cancer and Imperial College of London)  के शोधकर्ताओं का कहना है कि अधिक कॉफी पीने का ताल्लुक दिल और आंत की बीमारी से मरने का जोखिम कम होने से है। (समाचार अपडेट - 21 जुलाई, 2017 ई. ) Keywords :- Age can be longer by drinking coffee health benefits in hindi, Health Benefits News in HIndi, London England Great Britain United Kingdom Health Benefits News in Hindi

शिशु को मोटा कर सकता है गाय का दूध

Image
यदि आप अपने नन्हें शिशु को माँ की दूध के बजाय गाय का दूध पिलाते हैं अथवा स्तनपान कराने की जगह गाय के दूध को ज्यादा तवज्जो देते हैं, तो ऐसा करना आपके नन्हें शिशु के स्वास्थ्य के लिए काफी हानिकारक हो सकता है। क्योंकि गाय के दूध का अत्यधिक सेवन उन्हें मोटा कर सकता है या फिर उन्हें अनचाहे मोटापे का शिकार बना सकता है। एक नए शोध अध्ययन में यह बात स्पष्ट रूप से सामने आई है कि जिन शिशुओं को एक दिन में 600 मि.ली. गाय का दूध पिलाया जाता है, उनमें माँ के स्तनपान या फॉर्मूला मिल्क का सेवन करने वाले शिशुओं की तुलना में उनका वजन तेजी से बढ़ता है और 10 वर्ष की उम्र तक वे मोटापे का शिकार हो सकते हैं। ये अध्ययन यूनिवर्सिटी ऑफ ब्रिस्टल ने किया है। इस शोध कार्य की प्रमुख डॉ. पॉलिन एमेट के अनुसार, -  'नवजात तथा नन्हें शिशुओं को सिर्फ गाय का दूध पिलाना उनके वजन में लगातार इजाफा करता है और साथ में बचपन में उनका बॉडी मास इंडेक्स (Body Mass Index) भी अधिक होता है।' ~ नन्हें शिशु को मोटापे से बचाने के उपाय ~ जितना हो सके अपने शिशु को स्तनपान कराएं। शिशु को 3 वर्ष तक की आयु तक केवल माँ का